Sunday, 29 July 2018

Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog वाक्यांतरण, अशुद्धि शोधन, उपसर्ग, प्रत्यय

Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog

वाक्यांतरण, अशुद्धि शोधन, उपसर्ग, प्रत्यय

Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog: नमस्कार दोस्तों आज जो पुस्तक हम आपके सामने लेकर आए हैं उसका नाम:  हिंदी शब्द अर्थ प्रयोग Hindi Shabd Arth Prayog लेखक का नाम है- डॉ हरदेव बाहरी Dr Hardev Bahri प्रकाशक : अभिव्यक्ति प्रकाशन Abhivyakti Prakashan हरदेव बाहरी सामान्य हिंदी pdf
Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog

आज हम आपके सामने हरदेव बाहरी की पुस्तक के एक खंड को प्रस्तुत कर रहे हैं जिसका शीर्षक है:

Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog वाक्यांतरण, अशुद्धि शोधन, उपसर्ग, प्रत्यय

रचना की दृष्टि से वाक्य तीन प्रकार के होते हैं सरल, संयुक्त और मिश्र। सरल वाक्यों में एक ही क्रिया या एक ही क्रिया और उसका विस्तार होता है. जैसे


राम आया- एक ही क्रिया ‘आया’ (सरल वाक्य)


राम अपने घर से आया- एक ही क्रिया ‘आया’ के साथ उसका विस्तार ‘अपने घर से’ (सरल वाक्य)


राम कल शाम 4:00 बजे रोता  चिल्लाता अपने घर से आया- कल से अपने घर से, एक ही क्रिया ‘आया’ का विस्तार (सरल वाक्य)


दो या दो से अधिक सरल और स्वतंत्र वाक्य और तथा एवं या परंतु ना नाना या या अथवा इसलिए समुच्चयबोधक और से जुड़े हो तो तो उसे संयुक्त वाक्य कहते हैं. जैसे


राम आया मेरे पास बैठ गया
उसने ना खाना खाया ना पानी पी
मैं जाना चाहता था परंतु जा नहीं सका
वह ग्रुप में खेलता रहा इसलिए बीमार पड़ गया
घर जाओ या यहीं बैठे रहो लेकिन यहां शोर मत मचाओ( तीन स्वतंत्र वाक्य)


मिश्र वाक्य में भी दो या दो से अधिक सरल वाक्य होते हैं परंतु उनमें एक वाक्य मुख्य होता है और दूसरा या तीसरा वाक्य अधिनियम आश्रित वाक्य होता है मुख्य और अधीन वाक्यों को जोड़ने वाली निम्नलिखित समुच्चयबोधक अव्यय होते हैं- कि ताकि क्योंकि जैसा कि यदि तो यद्यपि तथापि जूही जब तक जहां तक जहां भले ही जो( और इसके रूपांतरण जिसे जिस जिनका जिन्हें ). उदाहरण


उसने कहा कि आज छुट्टी हो जाएगी ( संज्ञा उपवाक्य)
उसे घर भेज दो ताकि कोई झगड़ा ना हो ( क्रिया विशेषण उपवाक्य)
यदि मैं घर ना गया तो मार पड़ेगी ( क्रिया विशेषण उपवाक्य)
यद्यपि वह मोटा है तथापि डरपोक है( क्रिया विशेषण उपवाक्य)
यह वही लड़का है जो कल यहां आया था( विशेषण उपवाक्य)


कर्ता के बारे में विधान करने वाली क्रिया हो, तो वह वाक्य कृत वाच्य होता है, और कर्म के बारे में विधान करने वाली क्रिया हो तो उस वाक्य को कर्मवाच्य कहते हैं, जैसे


मैं फल खाऊंगा( कृत् वाच्य)
मुझसे पल खाया जाएगा( कर्मवाच्य)


हमने यहां 380 जोड़ी वर्क इकट्ठे किए हैं अर्थात 760 प्रत्येक प्रश्न के अंतर्गत यदि पाठक वाक्यों को ऊपर नीचे करके पढ़ेंगे तो उन्हें 760 वाक्य प्राप्त हो जाएंगे.





Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog अशुद्धि शोधन


वर्तनी की अशुद्धियां
शब्द निर्माण की अशुद्धियां
शब्द चयन की अशुद्धियां
अनावश्यक शब्द
व्याकरण की अशुद्धियां
स्वर की अशुद्धियां
व्यंजन की अशुद्धियां


हिंदी शब्द अर्थ प्रयोग शब्द निर्माण खंड 
उपसर्ग प्रत्यय संधि और समास


यहां से हरदेव बाहरी का दूसरा खंड चालू होता है जिसका नाम इस शब्द निर्माण खंड इसको हम कई खंडों में प्रस्तुत करेंगे जिसमें प्रथम उपसर्ग प्रत्यय का जो इसी PDF में जुड़ा हुआ है

Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog उपसर्ग

उपसर्ग कुछ ऐसे शब्दांश हैं जो कि दूसरे पूरे शब्दों से पहले जोड़कर उनके अर्थ में कई तरह के परिवर्तन ला देते हैं. अपने से वह सार्थक नहीं होते वह जिस शब्द से पहले जुड़ते हैं उनमें एक विशेषता ला देते हैं.

आप अगर ध्यान से देखेंगे तो हार मैं अलग-अलग प्रत्यय जोड़कर सब का अर्थ बदल गया है

आहार खाना, परिहार त्याग दूर जाना, प्रहार चोट, बिहार घूमना, संहार नाश


उपसर्गों का अध्ययन करते समय एक विशेष बात का ध्यान देने योग्य है कि इनसे कभी कभी तो ऐसा अर्थ हो जाता है कि मूल्य रूढ़ शब्द से उसके तालमेल बिठाना अत्यंत कठिन हो जाता है दूसरी बात यह है कि मूल में कोई शब्द संज्ञा है तो उस सब लगने से विशेषण हो जाता है और विशेषण है तो संज्ञा या क्रियाविशेषण हो जाता है. संस्कृत हिंदी और उर्दू के उपसर्गों का संग्रह


Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog प्रत्यय

पहले अध्याय में अकर्मक से सकर्मक और इन दोनों में प्रेरणार्थक क्रियाएं बनाने के आ, वा एवं कृदंतो  के निर्माण से क्रिया  के बाद जो  शब्दांश ता ,आ ,ना आदि लगे हैं , उन्हें प्रत्यय कहते हैं।
नोट : कृत प्रत्यय वे हैं क्रियापद से जुड़ते हैं और तद्धित प्रत्यय वे हैं जो क्रिया से भिन्न अर्थात विशेषण, संज्ञा के अंत में लगते हैं।


ज्यादा से ज्यादा पुस्तक डाउनलोड करने के लिए
आप हमारी वेबसाइट www.awillguru.com  पर विजिट करें
awill guru website:
JOIN TELEGRAM  GROUP:
JOIN FACEBOOK GROUP:
हरदेव बाहरी पुस्तक UPSC UPPCS प्रीलिम्स और मेंस दोनों में अत्यंत ही लाभदायक है तो जो पुस्तक इन बड़े एग्जाम में लाभदायक होगी वह अवश्य ही अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं में आपके लिए लाभदायक होगी. ज्यादातर प्रश्न उत्तर प्रदेश परीक्षाओं के हरदेव बाहरी पुस्तक से बनते हैं।
UPPSC RO ARO  UPPCL RO ARO असिस्टेंट ग्रेड 3 Lower Subordinate pre and mains TET CTET UGC NET LT grade teachers exam TGT PGT exam KVS UPSSSC VDO GRAM PANCHAYAT ADHIKARI LEKHPAL आदि
ऐसे विभिन्न एग्जाम में जहां पर हिंदी के प्रश्न पूछे जाते हैं हरदेव बाहरी पुस्तक अत्यंत ही लाभदायक होगी. इसमें सभी प्रीवियस ईयर पेपर्स  निहित है. या यूं कह लें कि जब इस इस प्रश्न बनाए गए हैं तो सभी पुराने प्रश्न इसी से आए हुए हैं.
हरदेव बाहरी अपने आप में एक रामबाण पुस्तक है. हम धीरे-धीरे कर करें आपको सारे खंड उपलब्ध करा देंगे. जो बच्चे तैयारी कर रहे हैं और दूरस्थ रहते हैं जिनको यह पुस्तक उपलब्ध नहीं हो पाती वह यह पुस्तक खंडों में नीचे दिए गए लिंक से डाउनलोड करते रहे
Note: जो सक्षम है वह इस पुस्तक को खरीद कर पढ़ाई कर सकते हैं, इसलिए मैं Amazon के लिंक को भी नीचे लगा दे रहा हूं जिससे आप इस पुस्तक को खरीदकर पढ़ सकें
Hardev Bahri is very beneficial in both UPSC UPPCS Prielms and Mens, then the book which will be profitable in these large exams, will definitely be beneficial for you in other competitive examinations. Most of the questions are made from this book of Uttar Pradesh examinations. UPPSC RO ARO UPPCL RO ARO Assistant Grade 3 Lower Subordinate Pre and Mains TET CTET UGC NET LT grade teachers examination TGT PGT examination KVS UPSSSC VDO GRAM PANCHAYAT ADHIKARI LEKHPAL ETC In such various exams, where questions are asked in Hindi, this book will be very beneficial. It contains all previous year's papers. Or say that when these questions have been made, then all the old questions have come from this.  Hardev Bahri exterior is a sovereign book in its own right. We will gradually make you all the blocks available. Children who are preparing and staying away from this book, who do not have this book available, keep reading this book in sections from the link below. Note: Those who are capable can buy Hardev Bahri Hindi Book and study so I am putting down the link of Amazon as you can buy and read this book.




In Single Line: It is the best book in Hindi for preparation of any competitive exam


Download Hardev Bahri Hindi Shabd Arth Prayog Free:
Download


Must Watch Other Parts Downloads of Hardev Bahri

No comments:

Post a Comment

We will see your message... soon we reply... do visit us again to check your reply
Awillguru


Note: Hate Spamming!!

Match Content

DOWNLOAD A HISTORY OF ANCIENT AND EARLY MEDIEVAL INDIA

DOWNLOAD A HISTORY OF ANCIENT AND EARLY MEDIEVAL INDIA DOWNLOAD A HISTORY OF ANCIENT AND EARLY MEDIEVAL INDIA FROM THE STONE AGE TO THE 1...